Home / Alwar / खुशखबरी : दिल्ली से अलवर रैपिड रेल को राजस्थान सरकार की मंजूरी, 70 मिनट में दिल्ली से अलवर पहुंचेंगे

खुशखबरी : दिल्ली से अलवर रैपिड रेल को राजस्थान सरकार की मंजूरी, 70 मिनट में दिल्ली से अलवर पहुंचेंगे

Delhi-Alwar Rapid Rail Project : दिल्ली-जयपुर रैपिड रेल को राजस्थान सरकार ने मंजूरी दे दी है।

अलवर. Delhi-Alwar Rapid Rail Project : इसी साल हरियाणा केबिनेट के बाद शनिवार को राजस्थान सरकार ने दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी आरआरटीएस कॉरीडोर की डीपीआर को मंजूरी दे दी है।

रिजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के जरिए एनसीआर में क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए प्रस्तावित दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी (शाहजहांपुर-नीमराना-बेहरोड़ अर्बन कॉम्प्लेक्स) आरआरटीएस कॉरीडोर बनाया जाएगा। जिसकी डीपीआर (विस्तृत परियोजना रिपोर्ट) को मंजूरी दी गई है। फरवरी में हरियाणा कैबिनेट ने भी दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी आरआरटीएस कॉरीडोर के डीपीआर को मंजूरी दी थी। इससे पहले दिसम्बर 2018 में इस परियोजना की कार्यान्वयन एजेंसी एनसीआरआरटीसी बोर्ड ने डीपीआर मंजूर की थी।

तीन चरणों में लागू होगा

तीन कॉरिडोर में से एक दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी कॉरीडोर को तीन चरणों में लागू करने की योजना है। पहले चरण में, दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी अर्बन कॉम्प्लेक्स का निर्माण किया जाएगा। दूसरे चरण में इसे एसएनबी अर्बन कॉम्प्लेक्स से सोतानाला तक बढ़ाया जाएगा और तीसरे चरण में अलवर तक लाया जाएगा। अब जल्दी पाइप लोड टेस्टिंग का कार्य शुरू होने की संभावना है।

160 किलोमीटर की गति से दौड़ेगी ट्रेन

आरआरटीएस ट्रेन की ऑपरेशनल गति 160 किमी प्रति घंटा तथा औसत गति 100 किमी प्रति घंटा होगी। प्रत्येक 5-10 मिनट की आवृति पर उपलब्ध होगी। सभी कोच वातानुलूकित होंगे। हवाई जहाज जैसी बैठने की सीटें होगी। महिलाओं के लिए व बिजनेस कोच अलग होंगे। इस कोरिडोर से दिल्ली, गुरुग्राम, रेवाड़ी, मानेसर,धारुहेड़ा, बावल और आसपास के क्षेत्रों में बुनियादी ढांचा विकसित होगा। यह बनने के बाद 106 किमी की दूरी लगभग 70 मिनट में तय की जा सकेगी।

35 किलोमीटर अण्डरग्राउण्ड होगा

106 किमी लम्बे दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी कॉरिडोर का 35 किमी भाग अंडरग्राउंड होगा। इसमें 5 स्टेशन होंगे तथा शेष 71 किमी का भाग एलिवेटेड होगा। जिसमें 11 स्टेशन होंगे। यह कोरिडोर दिल्ली के सराय काले खां से शुरू होगा। वहां दो आरआरटीएस कॉरीडोर के साथ संचालित होगा। जिससे यात्रियों को एक कोरिडोर से दूसरे कोरिडोर मे जाने के लिए ट्रेन नहीं बदलनी होगी। यह कॉरिडोर अन्य कॉरीडोर के साथ सराय काले खां पर जुड़ेगा।

ये तीन कॉरिडोर

योजना आयोग की ओर से पहले चरण में तीन आरआरटीएस कॉरिडॉर को चिन्हित किया है, जिसमे दिल्ली से मेरठ, दिल्ली से पानीपत और दिल्ली से अलवर आरआरटीआस कॉरिडॉर हैं। एनसीआर में एकीकृत परिवहन योजना 2032 के तहत आठ ऐसे कोरिडरों का निर्माण किया जाएगा।

Related Story-

कद भले ही छोटा पर ख्वाहिश आसमां छूने की, मिलिये अलवर के नीरज सैनी से

About admin

Check Also

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के नट्टू काका का निधन, 77 की उम्र में घनश्याम नायक ने ली आखिरी सांस

टीवी की दुनिया से एक दिल टूटने वाली खबर सामने आई है। टीवी शो ‘तारक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »