Home / Rajasthan / मां ने 5 साल के बेटे का गला दबाया:प्रेमी के साथ मिलकर शव फेंका, 3 महीने तक पुलिस के सामने करती रही ड्रामा

मां ने 5 साल के बेटे का गला दबाया:प्रेमी के साथ मिलकर शव फेंका, 3 महीने तक पुलिस के सामने करती रही ड्रामा

मां ने प्रेमी के साथ मिलकर 5 साल के बच्चे की हत्या कर दी। 3 महीने तक दोनों पुलिस को धोखा देते रहे। आखिरकार पुलिस के सामने पूरा राज आ गया और दोनों को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया गया। जांच में सामने आया कि बच्चे को मां के अवैध संबंध का पता चल गया था। इसके बाद दोनों ने बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। मामला श्रीगंगानगर के पदमपुर का है।

हत्या के मामले में उसकी मां को गिरफ्तार किया गया है। मां ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर बच्चे को मारा था। दोनों के बीच अवैध संबंध थे। बच्चे ने दोनों को घर में घर में आपत्तिजनक हाल में देखा था और पिता को बताने की बात कही थी। प्रेमी युवक ने उसे पीटा लेकिन वह नहीं माना। तब उसे मार डाला। मामले में

एसपी आनंद शर्मा ने बताया कि मामले में मृतक बच्चे की मां सुमन ( 27) पत्नी साजन सिंधी और उसके प्रेमी सर्वेश ( 43) पुत्र सोनीलाल माली को गिरफ्तार किया है। दोनों ने हत्या करना कबूल किया है। मृतक बच्चे के पिता पति साजन सिंधी ने पड़ोस की महिला सुखप्रीत कौर बाजीगर उसके पति अशोक और एक अन्य लक्ष्मण पर शक जताया था। तीनों से पूछताछ भी की जा रही थी। मामले के खुलासे के बाद तीनों को छोड़ दिया गया।

मां को देख लिया था आपत्तिजनक हालत में
दरअसल, 30 अक्टूबर को मृतक तुषार (5) के पिता साजन सिंधी के घर से जाने के बाद सुमन ने सामने के घर में रहने वाले अपने प्रेमी सर्वेश को घर पर बुलाया था। इस दौरान बच्चे बाहर खेल रहे थे। तब ही तुषार घर में आया और उसने अपनी मां सुमन और सर्वेश को आपत्तिजनक हालत में देख लिया। सर्वेश को डर था कि बच्चा यह बात अपने पिता को नहीं बता दें। उसने उसे 10 रुपए का लालच दिया लेकिन वह नहीं माना और पिता को पूरी बात बताने पर अड़ा रहा। इस पर सर्वेश ने उसे पीटा। इसके बाद भी जब वह नहीं माना तो मां और उसके प्रेमी ने घर में पड़ी कपड़े की रस्सी से गला दबाकर तुषार की हत्या कर दी। मां ने एक बोरे में शव को डालकर मकान की छत पर फेंक दिया। पुलिस से बचने के लिए बच्चे के गुम होने की कहानी गढ़ दी।

प्रेमी ने पड़ोसी महिला को आरोपी बनाने का बनाया प्लान
आरोपी प्रेमी को पता था था कि सुमन और सुखप्रीत कौर के बीच मोबाइल को लेकर विवाद हुआ था। ऐसे में उसने हत्या का आरोप मोबाइल के विवाद को लेकर पड़ोसी सुखप्रीत कौर और उसके परिचित लक्ष्मण वर्मा पर लगाने की योजना बनाई। हत्या के बाद सर्वेश अपने घर चला गया। इसके बाद मां ने बच्चे के गुम होने की जानकारी अपने पति साजन को फोन पर दी।

डॉग स्कवॉयड का इशारा, घर में हत्यारा
पुलिस को शक तब हुआ जब डॉग स्कवॉयड की जांच में हत्यारा घर में ही होने की बात सामने आई। घटना में पड़ोसी महिला पर आरोप लगाते हुए मृ़तक की मां धरने पर बैठ गई लेकिन उसकी एक्टिविटीज से पुलिस को शक हो रहा था। शव मिला बोरा भी सुमन के घर का था। पूरे मामले में बच्चों से बात की तो सच्चाई सामने आई। तुषार के अलावा उसके दो और भाई बाहर खेल रहे थे। उनसे पूछताछ में सर्वेश के घर आने की बात पुख्ता हुई। इस पर सुमन पर शक बढ़ता गया। सख्ती से पूछताछ में सर्वेश और सुमन ने वारदात करने की बात मान ली।

पति बोला-ऐसी महिला को ईश्वर औलाद ही नहीं देता
तुषार के पिता साजन सिंधी ने भास्कर को बताया कि उसने सुमन से 10 साल पहले प्रेम विवाह किया था। उसने ईश्वर ऐसी महिला को औलाद ही नहीं देते तो अच्छा होता। अपने अनैतिक काम छुपाने के लिए बच्चे की हत्या करने वाली औरत को सख्त सजा मिलनी चाहिए। उसे औरतें ने कई जिंदगियों बर्बाद कर दी।

इस टीम ने किया खुलासा
एसपी आनंद शर्मा ने बताया कि रायसिंहनगर के एएसपी बनवारी लाल व सीओ सुरेंद्र राठौड़ के निर्देशन में पदमपुर एसएचओ रामकेश मीना, केसरीसिंहपुर एसएचओ गोपाल सिंह नाथावत, घमूड़वाली एसएचओ सुरेंद्र राणां, पदमपुर थाने के कांस्टेबल अंबालाल, प्रमोद कुमार, पूजा, गुरसेवक सिंह, कांस्टेबल विष्णु की तीन टीम गठित की थी।

यूं खुला हत्या का राज

  • घटना की रात 30 अक्टूबर को डॉग स्क्वायड लगातार घर में ही वारदात होने का संकेत देता रहा।
  • आरोपी मां परिजनों और लोगों के साथ धरने पर बैठ गई। उसकी गतिविधियां संदिग्ध थी। इससे जांच में देरी भी हुई।
  • बच्चे के अंतिम संस्कार के बाद सुमन से पूछताछ हुई तो उसने बताया कि जिस बोरे में तुषार का शव मिला वह उन्हीं का है।
  • राउण्ड अप तीनों लोगों सुखप्रीत,अशोक और लक्ष्मण से पूछताछ में ऐसा सुराग नहीं मिला जिससे उन्हें हत्या के मामले में लिप्त माना जाए।
  • पुलिस ने बच्चों को विश्वास में लेकर बात की तो मझले बेटे पुनीत ने राज खोला की घटना वाले दिन पापा के जाने के बाद पड़ोस के सर्वेश अंकल घर आए थे।
  • बच्चों ने पुलिस को बताया कि पापा बाहर से कुंडी लगाकर कहीं गए थे। जबकि सुमन इससे इनकार कर रही थी।

अजमेर के रूपनगढ़ थाना क्षेत्र में बीती रात दलित समाज के युवक ने रस्सी का फंदा बनाकर आत्महत्या कर ली। सुसाइड से पहले उसने एक सुसाइड नोट भी लिखा। इसमें पुलिस पर राजनीतिक दबाव में आकर न्याय नहीं करने का आरोप लगाया गया है। युवक ने अपने तीन पेज के सुसाइड नोट में दो पुलिस अधिकारियों, एक पूर्व सरपंच को मौत का जिम्मेदार बताया है।

ओमप्रकाश रैगर(25) किशनगढ़ उपखंड क्षेत्र के रूपनगढ थाना क्षेत्र में नोसल गांव का रहने वाला था। मंगलवार दोपहर 3 बजे के आसपास कमरे की छत पर लगे लोहे के हुक में फांसी का फंदा उसने जान दे दी। शव के पास एक सुसाइड नोट भी मिला है। (

About admin

Check Also

राजस्थान में कोरोना वायरस का चौंकाने वाला सामने आया है। यहां एक ही परिवार में सभी 5 सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

अजमेर। राजस्थान में कोरोना वायरस का चौंकाने वाला सामने आया है। यहां एक ही परिवार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »